इन आँखोकी इनायत देखकर

eyes-1220402_960_720

हररोज़ तो देखते थे हम एकदुसरेको,
फिर हम मुस्कुराकर देखते थे तो क्यों मुकर जाते थे,
गुफ्तगू करनेका प्रयास जबभी हम करते थे,
तो उन आँखोसे अजनबी होनेका पैगाम क्यों दे जाते थे।

तुम्हे क्या पता कितनी हिम्मत जुटाकर,
अपना मन बनाकर आपसे गुफ्तगू करने आये थे,
कितनी सारी बाते ज़ेहनमें रखकर,
धड़कते हुए दिलके साथ तुम्हारे पास आये थे।

नाम न था पता आपका, बस आँखोसे रूबरू थे,
फिरभी आपने निगाहे मिलातेही हमे पहचाना तक नहीं ,
ठुकरा दिया इस कदर की हैरान रह गए थे,
हमारी मासूम बातोंमे छुपी सच्चाईको समझा तक नहीं।

हिम्मत जुटानेवालोको ऐसे ठुकराता हे क्या कोई,
दिल्लगी करनेका ऐसा सिला देता हे क्या कोई,
वो तो आपकी आँखोमे सारा जहा दिख गया वरना,
ऐसे ठोकर खानेके बाद संभालता हे क्या कोई।

जमानेमें तो बदनाम हो ही गए है मदहोशीके लिए,
होशमें भला कैसे रह सकता है कोई उन आँखोमें झाककर,
अफ़सोस नहीं हे हमे हमारे मदहोश रेहनेके लिए,
ये बेखबर जमानाभी बहक जायेगा इन आँखोकी इनायत देखकर।

Advertisements

दुनिया बदलनेवालोकी हिम्मत

640px-Diary-of-dreams-amphi-festival-2013

दिलकी बाते जानकर, पीठ थपथपाकर,
हौसला बढ़ानेकी शायद ही किसीकी कोशिश होती हैं,
ढ़लतेे सूरजको देखकर मुँह फेरने वाली इस दुनियाको,
उसकी तड़पन कहा पता होती हैं।

हर मुश्किलका सामना करनेके लिए,
जज़्बा अटूट हो जाता हैं जब नियत साफ होती हैं,
आधी-अधूरी बात जानके नजरिया बदलतीे इस दुनियाको,
दुनिया बदलनेवालोकी हिम्मत कहा बर्दाश होती हैं।