See You Again

6067912784_8dc86169a6_b

She was the inspiration behind the first poem of my life. Oblivious of what is going on with her and without any thought of her since I don’t know when, she appeared unexpectedly. Not in my thought, but in front of me. I thought Goa trip was over, memories of the trip were over. But they were not. It was the last phase in the journey back to home of the finally executed Goa trip, from Katraj to Nigdi. She boarded on the bus, searched for a place hastily. As she entered, I noticed she was wearing bangles, the same ones a girl wears after marriage. The same style. I thought she was married. My heart pulsated. I don’t know why. She settled down. I looked at her, and I am not sure if we exchanged glances or she remembered who I am, because I shied away as I anticipated she will turn her gaze toward me. No, it was not possible. She can’t be married. I don’t know why I was concerned about her marital status. She was my crush and I never talked to her. Not even once. What should I do? Should I talk to her or let it be the way it was?

After 12th standard, I saw her once, not once, twice, at two different bus stands. Both times, she didn’t see me. This was the third time. Again, I thought about whether to talk to her or not. I had never dared to talk to her in 12th standard, given her confrontational, sassy, and cocky nature. In addition, this indecision and chaos was result of terrible past experiences of initiating conversations. Once I initiated a conversation, I got scolded from teacher, peon, and principal. Then in another incident, I got a patronizing look from a girl, her disposition showing I am a downmarket pervert. Then I approached a girl and she turned around and walked away with a face like nothing happened. I felt like I had been misunderstood every time. This history loomed large over my capacity of decision-making when it came to the matters of the heart. This time, I feared, would not be different. I would try to say something and it might backfire. I decided to let it be the way it was. I don’t want to end up getting scolded from bus conductor, beaten up by fellow passengers, and thrown out at 11:30 pm for misunderstanding that may arise. There was no transport available besides cabs at that hour. Enough with shitty excuses, the truth was meri fatt rahi thi. Yes, meri fatt rahi thi.

The crowd was less as the bus moved forward and her conversations on the phone were audible. I learnt she attended her friend’s marriage and those bangles were for that occasion. That was the only consolation for the night. Besides that, my cowardice persisted. I didn’t talk to her. Then she descended at her stop and I did what I always did. I wrote a poetry. She was the inspiration for my first poetry and she is also the inspiration for the following poem I wrote.

तकदिरकी साजिशोंमें कही कोई राझ छुपा तो नहीं,
इत्तिफ़ाक़तले मिलने वाले मुसाफिरों की कही मंजिल एक तो नहीं..

मिलन लिखा हो तकदिरमे, तो मिलेंगे फिर इक बार इत्तिफ़ाक़तले,
पर उस दफा, मंजिल की परवाह किए बगैर, बस उस सफर की खूबसूरतीतले।

—————————————————————————————————–

P.S. In case, you want to read that first poem, here is the link:

https://crazytruefacts.wordpress.com/2014/04/20/quite-quietly/

Advertisements

आसूओमें शरीक ना हुए तो बात क्या

people-2567617_960_720

शिकायत हमे उस मुकद्दरसे नहीं,
जो हमसे उन्हें जुदा कर गया,
शिकायत हमे उस लम्हे से है,
जो आखरी अलविदे के वक़्त थम नहीं गया |

वो मुस्कुराहटे, वो तकरारे, वो मीठी बाते,
वो यादे, दर्द देती हे जर्रे जर्रे से,
बिछडनेसे कुछ अंश निकल गया हमारे अंदरसे,
तो आजकल हम रहते है सहमे सहमे से |

आसू ना बहे, पागल ना हुए,
चंद दिनों का सफ़र सदियो की तरह ना लगे तो बात क्या,
और उन आसूओमें सदियों का सफ़र सिमट कर,
हम उसमें शरीक ना हुए तो बात क्या |

उस मुस्कुराहट के पीछे

smile-mouth-teeth-laugh-65665

जुदाई का ये आलम हमसे,
न जाने क्या क्या करवाएगा,
जब भी याद आएगी उनकी,
न जाने कितने आंसू रुलाएगा,

साथ बिताया हुआ हर लम्हा,
लबों पे मुस्कुराहट तो ले आएगा,
मगर उस मुस्कुराहट के पीछे,
न जाने कितने गम छुपाएगा।

फसा देगी ये आँखे

eyes-1220402_960_720

ये आँखे, फसा देगी ये आँखे एक दिन,
जुबाँ पलट जाए, पर ये अपनी जिद नहीं छोड़ती,
नियत बता देती है, सच बया कर देती है,
और अनजाने में इकरार भी कर देती है।

हमारी तकरार पे आँखे मासूमियत से बोली,
आदत है मुझे ताने सुनने की,
क्या करे, यहाँ लोगो के दिल बहक जाते है ,
और कसूर नजर को दिया जाता है।

इन आँखोकी इनायत देखकर

eyes-1220402_960_720

हररोज़ तो देखते थे हम एकदुसरेको,
फिर हम मुस्कुराकर देखते थे तो क्यों मुकर जाते थे,
गुफ्तगू करनेका प्रयास जबभी हम करते थे,
तो उन आँखोसे अजनबी होनेका पैगाम क्यों दे जाते थे।

तुम्हे क्या पता कितनी हिम्मत जुटाकर,
अपना मन बनाकर आपसे गुफ्तगू करने आये थे,
कितनी सारी बाते ज़ेहनमें रखकर,
धड़कते हुए दिलके साथ तुम्हारे पास आये थे।

नाम न था पता आपका, बस आँखोसे रूबरू थे,
फिरभी आपने निगाहे मिलातेही हमे पहचाना तक नहीं ,
ठुकरा दिया इस कदर की हैरान रह गए थे,
हमारी मासूम बातोंमे छुपी सच्चाईको समझा तक नहीं।

हिम्मत जुटानेवालोको ऐसे ठुकराता हे क्या कोई,
दिल्लगी करनेका ऐसा सिला देता हे क्या कोई,
वो तो आपकी आँखोमे सारा जहा दिख गया वरना,
ऐसे ठोकर खानेके बाद संभालता हे क्या कोई।

जमानेमें तो बदनाम हो ही गए है मदहोशीके लिए,
होशमें भला कैसे रह सकता है कोई उन आँखोमें झाककर,
अफ़सोस नहीं हे हमे हमारे मदहोश रेहनेके लिए,
ये बेखबर जमानाभी बहक जायेगा इन आँखोकी इनायत देखकर।

दुनिया बदलनेवालोकी हिम्मत

640px-Diary-of-dreams-amphi-festival-2013

दिलकी बाते जानकर, पीठ थपथपाकर,
हौसला बढ़ानेकी शायद ही किसीकी कोशिश होती हैं,
ढ़लतेे सूरजको देखकर मुँह फेरने वाली इस दुनियाको,
उसकी तड़पन कहा पता होती हैं।

हर मुश्किलका सामना करनेके लिए,
जज़्बा अटूट हो जाता हैं जब नियत साफ होती हैं,
आधी-अधूरी बात जानके नजरिया बदलतीे इस दुनियाको,
दुनिया बदलनेवालोकी हिम्मत कहा बर्दाश होती हैं।

बिछड़ गए हम आपसे जिस लम्हे में

Edvard_Munch_-_Separation_-_Google_Art_Project

बिछड़ गए हम आपसे जिस लम्हे में, उस लम्हेने सारा सुकून छीन लिया,
चैन खो गया दिलका जैसे, डोर से टूटकर पतंगने अपना वजूद खो दिया,

इरादे सहम गए ज़िंदा रहनेके जैसे गर्दिशने तारोको गुम कर दिया,
खो गई हस्ती आपके बिना हमारी और परछाईओने भी पेहचाननेंसे इन्कार कर दिया,

आसमानोंकी अर्ज़ियां सुनकर लम्हे थम जाते है क्या कभी?
ज़ुन्झ ज़ुन्झ कर अपने आपसे, कोई सुलझता है क्या कभी?

खुदगर्ज़ है ये ज़िन्दगी, कभी कभार कैसे सितम ढाती है?
सितारोंको छूनेकी बात करने वालोको, हमेशा ज़मीनही क्यों नसीब हो जाती है?

दिन और रात गुजर जाते है रोज़, बिखरे हुए दिलके टुकड़े इकट्ठा करनेमें,
फिर मिलने की आसने ज़िंदा रखा है, वरना कितना वक्त लगता है अपने आपको मिटानेमें।


Wish You All A Very Happy World Poetry Day..!! 😀 😀

मुझे पता है…

id-100186891

मुझे पता है,
आपको सब पता है, पर बताते नहीं हो,
सब महसूस होता है, पर जताते नहीं हो,

मुझे पता है,
आप सब समझते हुए भी नासमझ रहते हो,
सबके साथ मौजूद रेहकर भी खोये खोये रहते हो,

मुझे पता है,
आप सब सुनकर भी अनसुना करते हो,
सब जानकर भी नज़रअंदाज़ करते हो,

मुझे पता है,
आपको दर्द भी होता है, रोना भी आता है,
और ये सब कुछ,
उस हँसी के पीछे छुपाना भी आता है।


(Image courtesy of pat138241 at FreeDigitalPhotos.net)

ज़िन्दगी में ये मकाम आ गया है

ID-100195643.jpg

ज़िन्दगी में ये मकाम आ गया है,
जब,
खुदसेही रूठो, खुदकोही मनाओ,
खुदसेही तकरार करो, खुदकोही अपनाओ,
खुदमेंही उलझ जाओ, खुदसेही सुलझ जाओ,
खुदसेही नफ़रत करो, और खुदकोही प्यार करो|

ज़िन्दगी में ये मकाम आ गया है,
जब,
खुदके आँसू खुदही पी जाओ,
खुदका गम खुदीसे बाटो,
खुदही दिल के सारे बिखरे हुए टुकड़े उठाओ,
और खुदको गले लगाके खुदहीको समझाओ,
…की सब ठीक हो जायेगा


(Image Courtesy of usamedeniz at freedigitalphotos.net)

उस नाजूकसी नजाकतने…

ID-100100498

उस नाजूकसी नजाकतने न जाने कितनो को घायल किया,
जैसे सवारी उन्होने जुल्फे अपनी, हमने खुदही को भुला दिया।
उनकी इक नजर मे, हमारे तो होश उड़ जाते थे,
पता नही उनके घर के आयने हररोज़ बिखर कर केसे जुड़ जाते थे ।

सवारना तो हम भी चाहते थे अपने दिल को,
समझाना तो हम भी चाहते थे अपने दिल को,
पर क्या करे, उन आँखों की मस्ती ने हमको रोक दिया,
इक झपक मे हीे, अपना दिल हमने उनके प्यार मे झोक दिया ।

जलन होती थी हमे उनसे, जिनके साथ वो हसती खेलती थी,
और हम तो उनकी इक नजर के लिए तरस जाते थे,
पर क्या करे, उन लोगों को उन लम्हो की कदर नही थी,
और हम उनके खयालो मे पूरी ज़िन्दगी जी जाते थे ।

उनकी जिंदादिली देख कर हम जमाने की बुजदिली भुल गए,
और उनसे हुई थोडीसी गुफ्तगू हमारी, हमारे तो किस्मत के दरवाजे खुल गए ।
उनकी इक मुस्कुराहट देख कर ही, हमारा मन भर जाता था,
क्योंकि कुछ देर के लिए ही सही, पर दिनमे चाँद जमींपर दस्तक लगाने आता था ।

बहुत शर्मीले है हम, उनके खयालो मे ही ख्वाब बुनते बेठे,
हमसे दिल का हाल बताने मे थोड़ी देर क्या हुई, वो किसी और को अपना दिल थमा बेठे।
उन्हें समजना चाहते थे हम, पर वो अपने ही दुनिया मे मस्त हो रहे थे,
और हम जो हमारा कभी ना था, वो ना मिलने के गम मे शिकवा कर रहे थे ।


(Image Courtesy of Ambro at freedigitalphotos.net)